खूब की है बैटिंग और फील्डिंग भी करो।

t4unews:जब फील्डिंग की बारी आती है तो सभी रोने लगते हैं ।जब प्रश्नों के हल नहीं बनते तब एग्जाम में पेपर कठिन बनाए जाने का अनुभव होता है। जब व्यक्ति बाप बनता है तब  पता चलता है जीवन में बच्चों की तरह मुंह चलाना कितना आसान होता है।  वह क्षण जब कोई व्यक्ति जिम्मेदारी से काम करने का प्रयास करता है और लोग उसे सपोर्ट नहीं करते हैं। लच्छेदार बातें और झूठी सच्चे भावनात्मक वादे करते हुए लोगों को सम्मोहित कर लेना अलग बात है पर जब वास्तविकता सर पर आती है तो वर्तमान सबको छक्के छुड़ा देती है ।आज हम इस अंक में देखेंगे कि इतने बड़े कांड होने के बाद जहां कांग्रेस सरकार में मौनमोहन सिंह के नाम पर उपहास होता था वहां आज भाषण वीर भी स्तब्ध हैं, स्पीचलेस हैं ।कुछ भी बोलने से पहले संभल संभल कर आगे बढ़ रहे हैं क्योंकि ,कई राज्यों में चुनाव का माहौल है और एक भी स्टेटमेंट या एक भी बातें लोगों को किस करवट बदल सकती है यह बखूबी जानते हैं। क्योंकि स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मणि शंकरअय्यर के एक नीच शब्द का उल्लेख जातिगत से लेते हुए किस कदर देश को सेंटीमेंट किया था या वह भी बखूबी जानते हैं। राजनीतिक खिलाड़ियों को यह कब कौन सा एक ढीली गेंद मिले कि बाउंड्री के उस पार पहुंचाने की क्षमता रखते है इसलिए आज वह ट्वीट भी नहीं कर पा रहे हैं और विपक्ष अब टूट पड़ा है अवसर का लाभ उठाने के लिए। ऐसा कोई शख्स नहीं है जो दहाड़ न रहा क्योंकि प्रशासन के द्वारा (पुलिस पक्ष के) द्वारा लाश को रातों-रात बिना परिवार के अनुमति के जला दिए जाने का बहुत ही संदेह को जन्म देता है कि आखिर ऐसी वजह क्या रही होगी कि पुलिस रात को ही इस लाश को ठिकाने लगाना पसंद कर रहे थी। अब सीबीआई जांच किए जाने की जानकारी आई है ।कुछ दिनों बाद इससे और बड़ा जघन्य कांड होगा और लोग इसे भूल जाएंगे ।इस तरीके से यह दुनिया की रीत है रामायण के बाद महाभारत होता है और महाभारत के बाद महाविश्व  होगा। कौन जानता है आगे क्या होने वाला है? हम दिखाएंगे आपको हर वह चीज ,जो जरूरी है ,आवश्यक नीम जैसे मीम के साथ। बुरा ना मांनियेगा यह तो सिर्फ एक हास परिहास के लिए बनाया गया एक चलचित्र है। जुड़े रहिए देखते रहिए थिंकफॉरयूनिटीnews.com हमारे साथ