अब तक 3159 संक्रमित; 3 हजार से ज्यादा मरीजों वाला देश का सातवां राज्य बना यूपी, सरकार ने पान मसाले पर लगा प्रतिबंध हटाया

उत्तर प्रदेश में बुधवार दोपहर से गुरुवार सुबह तक 155 कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं। इसके साथ राज्य में संक्रमितों की संख्या बढ़कर3159 हो गई। इसमें एक्टिव केस 1824 हैं। इसमें 1152 जमात से जुड़ेहैं। इधर,मैनपुरीजिलेके महमूदनगर और सिकंदरपुर में...

उत्तर प्रदेश में बुधवार दोपहर से गुरुवार सुबह तक 155 कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए गए हैं। इसके साथ राज्य में संक्रमितों की संख्या बढ़कर3159 हो गई। इसमें एक्टिव केस 1824 हैं। इसमें 1152 जमात से जुड़ेहैं। इधर,मैनपुरीजिलेके महमूदनगर और सिकंदरपुर में पकड़े गए 10जमातियों के विरुद्ध कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। सभी को पहले ही क्वारैंटाइन किया जा चुका है।

राज्य में कोरोना से मौत का आंकड़ा 60 हो गया हैं। वहीं, यूपी सरकार ने 25 मार्च को पान मसाला पर प्रतिबंध लगाने का फ़ैसला वापस लेते हुए केवल (निकोटिन) तंबाकू की बिक्री पर रोक जारी रखी है। तम्बाकू एवं निकोटीन युक्त पान मसाला व गुटखा पर प्रतिबंध जारी रहेगा।

ये फोटो लखनऊ के चारबाग रेलवे स्टेशन के बाहर का है। यहां स्पेशल ट्रेनों से प्रवासी मजदूर वापस लौट रहे हैं।

राज्य में संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले आगरा में

आगरा में 655, कानपुर नगर में 292, लखनऊ में 269,सहारनपुर में 205, गौतमबुद्धनगर (नोएडा) में 193, फिरोजाबाद में 177, मेरठ में 174, मुरादाबाद में 116, गाजियाबाद में 110, वाराणसी में 77, अलीगढ़ में 50, बुलन्दशहर में 57, रायबरेली में 46, हापुड़ में 47, मथुरा, अमरोहा, बस्ती में 36, बिजनौर में 34, संतकबीरनगर में 30, शामली में 29, रामपुर में 25, मुजफ्फरनगर में 24, सीतापुर में 20, संभल में 19, सिद्धार्थनगर, बागपत में 17- 17 और बदायूं में 16, प्रयागराज-बहराइच में 15-15, बांदा-प्रतापगढ़ में 14, औरैयामें 13 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

कोरोना अपडेट्स

वाराणसी: वाराणसी में फंसे राजस्थान और झारखंड के लोगों कोवापस भेजा जा रहा है।इससेपहले सभी लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग कीजा रही है।जिला प्रशासन की ओर से सभी को संस्कृत यूनिवर्सिटी मैदान में इकठ्ठा किया गया। यहांसे स्वस्थलोगों कोयूपी रोडवेज की बसों से घरभेजा जा रहा है।इस दौरानसोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराया गया।

वाराणसी से राजस्थान और झारखंड के मजदूरों को अलग-अलग बसों से उनके घरों को भेजा रहा है। इसके लिए यूपी सरकार ने बसों की व्यवस्था की है।
यूपी सरकार की तरफ से वाराणसी में फंसे लोगों को बसों से उनके घर भेजा रहा है। इनमें राजस्थान और झारखंड के मजदूर भी शामिल हैं।
  • आगरा: जिलेमें 27 नए मरीज मिले। बुधवार सुबह 13 की कोरोना की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद रात में 14 और लोग संक्रमित पाए गए। जिले में कोविड-19 के 667 मरीज हो गए।
  • मेरठ: बुधवार रात को आई रिपोर्ट में 10 और मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए।अब जिलेमें मरीजों की संख्या 186 हो गई। कानपुर में इलाज करा रहे मेरठ के मरीज को जोड़ दिया जाए तो यह संख्या 187 हो जाएगी।
  • हाथरस:जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार ने बताया कि मुरसान के करील का निवासी एक व्यक्ति आगरा में अपना उपचार करा रहा था। आगरा में ही उसके कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई। एहतियात के तौर पर हाथरस में उसके परिजनको भी क्वारैंटाइन किया गया है।
  • हापुड़: जिले में 6 नए कोरोना पॉजिटिव की पुष्टि हुई। सभी मरीज पहले से हॉटस्पॉट गांव कुराना के रहने वाले हैं। बुधवार सुबह भी मजीदपुरा निवासी एक महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी।
  • कानपुर: बुधवार को कोरोना के 15 नए मामले सामने आए। सीएमओ डॉ. अशोक शुक्ला ने बताया कि ये सभी लोग हॉटस्पॉट एरिया के हैं और कोरोना संक्रमितों के संपर्क में आए बताए जा रहे हैं। कानपुर में अब कोरोना संक्रमितों की संख्या 290 हो गई।
  • गाजियाबाद:जिले में बुधवार को भी 6नए मरीजों की पुष्टि हुई। इनमें 3मरीज खोड़ा केरहने वाले हैं। 2मरीज 3दिन पहले एक व्यक्ति की तबीयत खराब होने पर अस्पताल में भर्ती कराने आए थे। जांच में कोरोना पुष्टि होने के साथमरीजकी मौत हो गई थी।
  • मैनपुरी: जिलेके महमूदनगर और सिकंदरपुर में पकड़े गए 10जमातियों के विरुद्ध कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। सभी कोपहले ही क्वारैंटाइन किया जा चुका है। बताया गया कि यहांतब्लीगी जमात के मरकज में शामिल जमाती लॉकडाउनके बाद से महमूदनगर में छिपा हुआ था।उसने सभी से मरकजमें शामिल होने की बात छिपाई और लोगों से लगातार मिलता रहा। 4 अप्रैल को आगरा गेट चौकी इंचार्ज अतेंद्र सिंह ने जमाती हबीन खान को हिरासत में लेकरक्वारैंटाइन सेंटर भेजा था।
प्रयागराज रेलवे स्टेशन पर बाहर से आने वाले प्रवासियों की फोटो खींचता पुलिस का सिपाही।


आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
यह तस्वीर वाराणसी की है। गुरुवार को झारखंड और राजस्थान के लोगों को उनके गृह राज्य वापस भेजने से पहले थर्मल स्क्रीनिंग की गई।