अपने क्षेत्र की खबरें और विज्ञापन हेतु क्लिक करें । :
THINK LOCALLY ACT GLOBALLY
केवल शैक्षणिक एवं पाठन हेतु
सँस्करण एवं दिनाँक - Sunday 07 Jun, 2020

सुविधाओं के अभाव में परीक्षा छोड़ सकते हैं दिव्यांग स्टूडेंट्स, वैकल्पिक मूल्यांकन के आधार पर जारी होगा रिजल्ट

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) ने चिल्ड्रन विद स्पेशल नीड्स की श्रेणी में आने वाले स्टूडेंट्स को 10वीं- 12वीं की बची परीक्षाओं में शामिल ना होने का विकल्प दिया है। दरअसल, इन स्टूडेंट्स को परीक्षा में लिखने के लिए सहायक की आवश्यकता होगी। ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना कठिन होगा। इस बात को ध्यान में रखते हुए CBSE ने कहा कि ऐसे स्टूडेंट्स के नतीजे वैकल्पिक मूल्यांकन योजना के आधार पर जारी किए जाएंगे।

कैलकुलेटर के प्रयोग कर सकेंगे दिव्यांग छात्र

इस बारे में बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि यदि ऐसे स्टूडेंट्स को लिखने के लिए सहायक उपलब्ध नहीं होता और वह आने वाली परीक्षा में शामिल नहीं होना चाहते हैं, तो वह इस बारे में अपने स्कूलों को जानकारी दे सकते हैं। इसके बाद उनका रिजल्ट वैकल्पिक मूल्यांकन योजना के मुताबिक तय किया जाएगा। उन्होंने यह भी बताया कि अतिरिक्त समय, राइटर या रीडर, कंप्यूटर या लैपटॉप (इंटरनेट के बिना) के साथ ही दिव्यांग बच्चों को इस साल कैलकुलेटर के प्रयोग की भी अनुमति दी गई है। चिल्ड्रन विथ स्पेशल नीड्स (CWSN) श्रेणी के तहत दृष्टिबाधित, मस्कुलर डिस्ट्रॉफी, लोकोमीटर इंपेयरर्ड, बौनापन आदि शामिल है। इस साल ऐसे उम्मीदवारों की संख्या कक्षा 10वीं में 6,844 और 12वीं में 3,718 हैं।

1 से 15 जुलाई के बीच होगी परीक्षा

देशभर में कोरोनावायरस के बढ़ते प्रसार के कारण 24 मार्च से लगाए गए लॉकडाउन की वजह से देश भर के सभी शिक्षण संस्थान बंद है। इसके अलावा सभी राज्यों की बोर्ड और प्रतियोगी परीक्षाएं भी स्थगित कर दी गई हैं। इसी क्रम में CBSE ने भी अपनी सभी परीक्षाएं स्थगित कर दी गई थी, लेकिन अह यह परीक्षाएं देशभर में 1 से 15 जुलाई के बीच आयोजित की जाएगी। कक्षा 12वीं के लिए सिर्फ जरूरी 29 विषयों की परीक्षा ली जाएगी, जबकि 10वीं की परीक्षा केवल उत्तर पूर्व दिल्ली के स्टूडेंट्स के लिए ही आयोजित होगी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
CBSE Board 2020: Disabled students can leave the examination in the absence of facility of scribe, the result will be released on the basis of optional evaluation
Read More

केंद्रीय मंत्री ने लॉन्च किया ‘अर्बन लर्निंग इंटर्नशिप प्रोग्राम’, स्टूडेंट्स को मिलेगा देश के 4500 निकायों और स्मार्ट सिटी में इंटर्नशिप करने का मौका

स्टूडेंट्स को शहरी क्षेत्र में बेहतर ऑप्शन देने के मकसद से मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियल निशंक और आवास एवं शहरी विकास मंत्री हरदीप पुरी ने देश के पहले ‘द अर्बन लर्निंग इंटर्नशिप प्रोग्राम’ (TULIP) और उसका पोर्टल लॉन्च किया। इस प्रोग्राम के जरिए इंजीनियरिंग के स्टूडेंट्स को देश के 4500 निकायों और स्मार्ट सिटी में इंटर्नशिप करने का मौका मिलेगा। इस योजना को AICTE के द्वारा चलाया जाएगा। इस दौरान केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने बताया कि इस साल करीब 25,000 स्टूडेंट्स इस प्रोग्राम के तहत इंटर्नशिप कर सकेंगे। जबकि दो से तीन साल में यह संख्या बढ़कर एक करोड़ तक पहुंच जाएगी।

देश में इंजीनियरिंग के 80 लाख छात्र

उन्होंने यह भी कहा कि इस समय देश में इंजीनियरिंग के 80 लाख छात्र हैं। इस प्रोग्राम के तहत प्रशिक्षण पाने वाले स्टूडेंट्स को सर्टिफिकेट भी दिया जाएगा।इस प्रोग्राम का हिस्सा बनने के लिए स्टूडेंट्स इस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करना होगा। रजिस्ट्रेशन में उन्हें बताना होगा कि वह किस निकाय में इंटर्नशिप करना चाहता है। मंत्री ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान IIM, IIT और NIT आदि में सभी स्टूडेंट्स ने प्रयोगशालाओं में जमकर कार्य करते हुए पीपीई किट, वेंटिलेटर, सेनिटाइजर मशीन और मास्क आदि बनाने का काम किया।

इस साल 25,000 छात्रों को अवसर

मौजूदा समय में देश में इतनी सुविधाएं हैं कि अब स्टूडेंट्स को उच्च शिक्षा के लिए विदेश जाने की जरूरत नहीं है। स्टूडेंट्स की क्षमता स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन जैसे कार्यक्रमों में भी दिखाई देती है। वहीं, केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने कहा कि पहले साल 25,000 छात्र इंटर्नशिप कर पाएंगे। इसके जरिए युवाओं को शहरी स्थानीय निकायों में कामकाज की जानकारी मिलेगी। इसके अलावा उद्योग भी जरूरत के मुताबिक उन्हें रोजगार का मौका दे सकेंगे। केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने 2020-21 के बजट में इस योजना को शुरू करने की घोषणा की थी।

साभार : दैनिक भास्कर 

Read More

ईओ, एओ पद पर भर्ती के लिए होने वाली परीक्षा स्थगित, आयोग ने नोटिफिकेशन जारी कर दी जानकारी


यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) ने शुक्रवार को परीक्षाओं की नई डेटशीट के साथ ही एक और अहम घोषणा की है। आयोग ने बताया कि ईपीएफओ में ईओ / एओ पद के लिए होने वाली भर्ती परीक्षा को अगली सूचना तक स्थगित किया गया है। यह परीक्षा 4 अक्टूबर को आयोजित होनी थी, लेकिन अब इसे स्थगित कर दिया गया है। परीक्षा के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया 31 जनवरी से शुरू हुई थी।

421 खाली पदों पर होनी है भर्ती

UPSC को विभिन्न भर्ती परीक्षाओं के जरिए 421 खाली पदों को भरना है। इसके तहत प्रवर्तन अधिकारी/ लेखा अधिकारी, कर्मचारी भविष्य निधि संगठन, श्रम और रोजगार मंत्रालय आदि में भर्ती की जाएगी। इनमें से 168 रिक्त पद अनारक्षित वर्ग के लिए, 116 ओबीसी के लिए, 62 एससी के लिए, 42 ईडब्ल्यूएस के लिए और 33 पद एसटी के लिए हैं।

परीक्षाओं का नया केलैंडर जारी

इससे पहले आयोग ने शुक्रवार को सिविल सर्विस प्रीलिमिनरी एग्जाम की नई तारीख की घोषणा कर दी है। जारी डेटशीट के मुताबिक यूपीएससी सिविल सर्विस प्रीलिमिनरी की परीक्षा 4 अक्टूबर 2020 को आयोजित की जाएगी। जबकि मेंस परीक्षा 8 जनवरी को आयोजित होगी। UPSC ने बीते दिनों नोटिस जारी कर जानकारी दी थी कि "हालातों का जायजा लेने के बाद एग्जाम के लिए नई डेटशीट 5 जून को जारी की जाएगी।"



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
UPSC: Examination for recruitment to the post of EO / AO postponed, the Commission released the information
Read More

10वीं- 12वीं की बची परीक्षाओं के लिए डेटशीट जारी, 20 से 23 जून के बीच आयोजित होगी परीक्षाएं

लॉकडाउन की वजह से स्थगित हुई उत्तराखंड बोर्ड की परीक्षाओं की नई डेटशीट जारी कर दी गई है। इस बारे में जानकारी देते हुए बोर्ड ने कहा कि 10वीं और 12वीं की बची परीक्षाओं को 20 से 23 जून के बीच आयोजित कराया जाएगा। वहीं, सभी कॉपियों का मूल्यांकन कार्य 15 जुलाई तक पूरा कर लिया जाएगा। शिक्षा सचिव मीनाक्षी सुंदरम की ओर से यह घोषणा की गई। कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण उत्तराखंड सरकार ने सभी स्कूल, कॉलेज, मल्टीप्लेक्स, सिनेमा हॉल और ऑफिस बंद कर दिए थे।

जुलाई के अंत तक आ सकता है परिणाम

शिक्षा विभाग के तरफ से जारी निर्देश के मुताबिक जून में परीक्षाएं खत्म होने के बाद काॅपियों की मूल्यांकन प्रक्रिया भी जल्द शुरू की जाएगी। कॉपियों का मूल्यांकन कार्य 15 जुलाई तक पूरा कर लिया जाएगा। ऐसे में जुलाई के अंत में परीक्षा परिणाम जारी करने की संभावना है। हालांकि, अभी सब्जेक्ट वाइज डिटेल डेटशीट जारी नहीं की गई है। इसके लिए स्टूडेंट्स बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट https://ubse.uk.gov.in/ को चेक करते रहें।

3 मार्च से शुरू हुई परीक्षा

उत्तराखंड बोर्ड की 10वीं की परीक्षा 3 मार्च और 12वीं की परीक्षाएं 2 मार्च से शुरू हुई थीं। इस साल राज्य में बोर्ड परीक्षाओं में 2 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स शामिल हुए थे। लेकिन बाद में कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने की वजह से पूरे देश में लॉकडाउन कर दिया गया । इसकी वजह से सभी स्कूल-कॉलेज बंद और सभी परीक्षाएं स्थगित कर दी गईं। लेकिन अब देश में हो रहे अनलॉक के साथ ही शैक्षणिक गतिविधियां भी धीरे-धीरे शुरू की जा रही है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Uttarakhand Board 2020: Datasheet released for the remaining examinations of 10th and 12th, examinations to be held between June 20 and 23
Read More

असम 10वीं बोर्ड के नतीजे जारी, कुल 64.8 फीसदी परीक्षार्थी हुए पास, 99.16% के साथ धृतिराज बास्तव कलिता ने किया टॉप

बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन, असम ने शनिवार सुबह 10वीं के परीक्षा परिणाम जारी कर दिए है। परीक्षा में शामिल स्टूडेंट्स असम बोर्ड का ऑफिशियल वेबसाइट results.sebaonline.org, resultsassam.nic.in और assamresult.in पर अपने रिजल्ट देख सकते हैं। इस साल कोरोना के मद्देनजर सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए बोर्ड स्टूडेंट्स के लिए डिजिटल मार्कशीट जारी करेगा। असम बोर्ड दसवीं परीक्षा में इस साल पास प्रतिशत 64.80 रहा। पादुम पाखुड़ी हाई स्कूल के छात्र धृतिराज बास्तव कलिता 600 में से 595 अंक यानी 99.16% के टॉपर बने।


ऐसे देखें रिजल्ट

  • सबसे पहले बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाएं।
  • अब यहां रोल नंबर औ अन्य डिटेल्ट्स दर्ज करें।
  • इसके बाद सबमिट विकल्प पर क्लिक करें।
  • कुछ देर बाद परिणाम कंप्यूटर स्क्रीन डिस्प्ले हो जाएगा।

64.8 फीसदी स्टूडेंट्स पास

इस साल 10वीं के नतीजों में SEBA बोर्ड के असम हाई स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (एचएसएलसी) और असम हाई मदरसा एग्जामिनेशन (एएचएम) परिणामों के लड़को ने बाजी मारी है। परीक्षा में शामिल कुल परीक्षार्थियों में से 66.93 फीसदी छात्र और 62.91 फीसदी छात्राएं सफल रहीं। साल 2020 की असम 10वीं की परीक्षाओं में 64.8 फीसदी परीक्षार्थी सफल हुए हैं। जबकि, 2019 में 60.23 फीसदी स्टूडेंट्स पास हुए थे। बोर्ड की तरफ से जारी आकड़ों के मुताबिक इस साल 10वीं की परीक्षा के लिए कुल 3,48,737 लाख स्टूडेंट्स ने अप्लाय किया था, जबकि 3,42,224 छात्र एग्जाम में सम्मिलित हुए थे। इसमें छात्रों की संख्या कुल 1,60,794 और छात्राओं की संख्या 1,81,430 थीं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Assam Board 10th result declared: Assam Board 10th Results 2020 News Updates | SEBA Board 10th topper name, click here for details, Assam 10th topper, Dhritiraj Bastav Kalita Assam board 10th topper
Read More

विभिन्न एंट्रेंस एग्जाम्स के लिए एम्स ने जारी किए एडमिट कार्ड, 150 से ज्यादा शहरों में 11 जून को होगी परीक्षा

ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एम्स) ने अपनी ऑफिशियल वेबसाइट पर एम्स पीजी (एमडी / एमएस / एमसीएच (6 वाईआरएस) / डीएम (6 वाईआरएस) / एमडीएस) प्रवेश परीक्षा 2020 के लिए एडमिट कार्ड जारी कर दिए है। प्रवेश परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन कराने वाले उम्मीदवार aiimsexams.org पर अपना एडमिट कार्ड ऑनलाइन डाउनलोड कर सकते हैं। एंट्रेंस एग्जाम 11 जून, 2020 को आयोजित किया जाएगा। कोरोना महामारी के कारण बने हालातों को देखते हुए संस्थान ने देशभर में 150 से ज्यादा शहरों में परीक्षा आयोजित करने का फैसला लिया है।

कोरोना से जुड़ी गाइडलाइन जारी

प्रवेश परीक्षा के लिए जारी एडमिट कार्ड को संशोधित किया गया है। दरअसल, इसमें कोविद -19 से जुड़ी कुछ घोषणा की गई है। किसी को भी कैंडिडेट्स को परीक्षा में उपस्थित होने से तब तक इनकार नहीं किया जाएगा, जब तक यह कोविद -19 , प्रॉस्पेक्टस और एडमिट कार्ड में लिखित निर्देशों के संबंध में परीक्षा के दिन सरकार (केंद्रीय / राज्य) के निर्देशों / सलाह का उल्लंघन न करे। वहीं, एडमिट कार्ड में टच फ्री एंट्री के लिए बारकोड होगा।

एडमिट कार्ड कैसे डाउनलोड करें:

  • सबसे पहले ऑफिशियल वेबसाइट aiimsexams.org पर जाएं।
  • होमपेज पर एकेडमिक कोर्सेस पर क्लिक करें।
  • इसके बाद अपना पाठ्यक्रम का चयन करें।
  • अब डिस्प्ले स्क्रीन पर एक नया पेज दिखाई देगा।
  • यहां मांगी गई जानकारी दर्ज कर लॉगिन करें।
  • AIIMS Admit Card 2020 को स्क्रीन पर डिस्प्ले हो जाएगा।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
AIIMS issued admit card for various entrance exams, exam to be held on June 11 in more than 150 cities
Read More

है तो सब-कुछ पर कुछ कर नहीं सकते....

t4unews:कोरोना की इस भीषण काल में जब भी अतीत या भविष्य के विषय  का ख्याल आता है  तो यह बात हमारे मस्तिष्क पर  बालो की तरह उग  जाती है कि ऐसा कठिन समय न कभी हमने देखा था ना देखा है और अभी आगे  कितनी और बार देखना होगा ? यह तो भगवान ही जानता है  विभिन्न प्रकार की आपाधापी और राकेट से उड़कर जाने वाले  अत्यंत तीव्र गामी  राकेट साइंस जैसे  आधुनिक जीवन को इस  कोरोना रोग  ने आम मानव  जन जीवन को दूभर और क्लिष्ठ बना दिया है ।  जब  से कोरोना आया तो सारे इंसानी सपने  ताश के पत्ते की तरह भरभरा के धराशाई हो गए और समझ में केवल एक ही बात आई कि जीवन में इस जान या अपनी जिंदगी से बढ़कर कोई भी दूसरी महती चीज नहीं है । गोया यह की  यह संपत्ति , यह शरीर,  यह सारे प्रकार की यश , कीर्ति और सभी ईश्वर की चीजें सब धरे के धरे रह गए हैं यदि इस जीवन में आपकी जान है तो जहान है  और कुछ महत्वपूर्ण नहीं ।

हवा शुद्ध है पर मास्क पहनना अनिवार्य है।

लॉक डाउन के  चलती चारों ओर हवा का वातावरण और माहौल प्रकृति कुदरत सब कुछ मेहरबान हो गई । इतना  शुद्ध वातावरण होने के बावजूद डर का माहौल कुछ ऐसा छाया है कि माइक्रो ऑर्गेनिक जर्म्स  से लेकर छोटे से छोटे जीवाणु विषाणु बैक्टीरिया माहौल में छाए हुए होने की इस कदर दहशत है कि हर कोई चाहता है कि भले ही हवा साफ  दिखे पर मुंह कपड़े या मास्क से  ढका होना चाहिए ।  प्रतिपल यूं लगता है कि जैसे मुंह खोल  कर के बेक्टीरिया का समूह हमारे अंदर आकर विराज सकता है ।  इस समय श्वेतांबर जैन मुनियों की वह भंगिमा है और वह रूपक अच्छी लगती है या पहले से ही मुंह ढांक कर मास्क लगा कर रखने की प्रथा जो स्वयं की,  अंदर की अनेकों असंख्य कीटाणुओं को बाहर वातावरण में छोड़ने से रोकते हैं या बाहर के लोगों को अंदर आने से रोकते हैं । तात्पर्य है कि हम कर अपने अंदर की विषाणु कीटाणु रूपी  बेकार की नेगेटिव चीजें जो दूसरों के लिए प्रयोग करने जैसे  निंदा या चुगली का काम करती हैं ऐसी चीजों को अगर हम रोक सके तो भी यह कोरोना  के मास्क  में हमें बहुत कुछ सबक सिखाने का जज्बा रखता है । 

सड़कें खाली हैं पर लॉन्ग ड्राइव पर जाना नामुमकिन है।
आसपास खाली सड़क के होने पर अपने ड्राइविंग की  कसौटी देखने वाले जो उन खाली सड़कों पर  अपनी गाड़ी की ड्राइविंग सीखने का शौक  पाले हुए लोगों के लिए यह सुनहरा मौका था कि चारों और सड़कें सुनसान चौड़ी चौड़ी सड़कें खूबसूरत सड़कें सुनसान हैं।  जहां वह अपनी ड्राइविंग अच्छे  से अच्छे तरीके से सीख सकते थे  या लंबी ड्राइव पर अपनी गाड़ी को  दूर दूर तक ले जा सकते थे ।  जिसमें उनकी दूर तक घूमने की ख्वाहिश पूरी हो जाए।   जीवन में कभी कभी ऐसा दुर्भाग्य भी आता है कि  हम सोचते हैं कि हमें जब रोड खाली मिलेगा या हमारी परिस्थितियों जब अनुकूल होगी तभी हम जीवन में कुछ ऐसा काम करेंगे जो हम  जो हमें वर्तमान में  काफी कठिन महसूस हो  होता रहा है।  इसी इंतजार में हम पूरी अपनी  बहुमूल्य समय बर्बाद कर डालते हैं ना तो हमें रोड कभी खाली मिलती है और नहीं ऐसा कोई अनुकूल समय आता है अर्थात हमें इसी जीवन के उठापटक और भीड़भाड़ वाले ट्रैफिक में स्वयं को चलते हुए अपना राह स्वयं बनाना पड़ता है । इसे दुर्भाग्य का या विधि का विधान कहो  कि जब हमें ऐसा अवसर मिला भी तब हम लाचार हैं बेचैन है कुछ भी नहीं कर सकते हैं क्योंकि यह प्रकृति के  परिस्थिति का एक करारा तमाचा  है ।

लोगों के हाथ साफ हैं पर हाथ मिलाने पर पाबंदी है।

इस रंग बदलती दुनिया में लोगों के हाथ तो साफ़ है परंतु फिर भी वह एक दूसरे से हाथ मिलाने के लिए जो आतुर हैं बेचैन हैं उन्हें यह समय अभी गले मिलने के लिए  हाथ फैलाने के लिए इजाजत नहीं दे रहा है या दूसरे शब्दों में कहा जाए कि जिन लोगों ने अपने हाथ साफ करके रखे हुए हैं अर्थात बहती गंगा में जिन लोगों ने अपने हाथ साफ करके रखे हुए हैं ।  हर उस मौके का फायदा उठा करके स्वयं को बलवान बनाकर जो इस समाज में स्वयं को एक स्वयंभू नेता,  प्रतिष्ठित व्यक्ति या  धनीमानी  या बहुत बड़ा नगर सेठ बना कर रखे हुए हैं ऐसे लोगों की हाथ भी साफ तो हैं लेकिन वह गरीब तबकों के लोगों के लिए हाथ मिलाने के लिए काबिल नहीं । इस काबिलियत को समय ने छीन लिया है उनके हाथों से कि चाहे तुम्हारे हाथ कितनी भी साफ हो लोगों के खून से आपके हाथ धोकर साफ किए हुए लोगों के,  मजदूरो के  पसीने से आपने हाथ धोकर साफ की हो या लोगों की हक की चीजों को , कोई काम नहीं आ सकें।   अब अल्कोहल छिड़क कर , स्प्रे मारकर अपने हाथ साफ कर रखे हो पर एक ऐसा समय भी आया  कि जो प्रकृति में आपको ऐसी  दुर्दांत वायरस या बीमारी की कल्पना से आपको आक्रांत करते हुए दूसरों से हाथ मिलाने के लिए रोक दिया ,  क्योंकि आपके अंदर जो छुपा बैठा चोर जैसा मतलबी  वाइरस  है कि पहले मैं बचू  फिर दूसरे की सहायता कर सकूं। या  दूसरे को अपने कुछ फिक्र  दिखाओ फिर  सहायता  प्रदान करे ।ऐसे  हाथ को इस कोरोना  रूपी कुदरत ने दूसरों जरूरतमंद लोगों से मिलाने के लिए भी रोक रखा है जो अपने आप में प्रशंसनीय  है । जो किसी कार्य की नहीं और एक दिखावा मात्र है कि ऐसे हाथ साफ जो एक गरीब के मैंले हाथ से हाथ मिलने के इसलिए लालायित होते हैं लेकिन केवल दिखावे के लिए,  केवल  फोटो खिंचवाने के लिए एक उदाहरण बनाते हुए समाज में स्वयं का उद्यापन दिखाने के लिए करने वाले ऐसे हाथों को तिरस्कृत करती है यह कोरोना काल ।

दोस्तों के पास साथ बैठने के लिए वक़्त है पर उनके दरवाजे बंद हैं।

यदि  किसी को आपने तहे दिल से दोस्त बना लिया तो उसके पास बैठने उठने की जरूरत ही क्या है ? उसकी धड़कन और उसकी लगन ही आपको इस बात के लिए एहसास कराती है कि उन्हें क्या चाहिए या आपको क्या करना  चाहिए ? उस दोस्त को पता होना चाहिए ऐसे समय  हम लोगों की आस पास उठने बैठने या उनके पास सोशल डिस्टेंसिंग ना बनाते हुए फिजिकल डिस्टेंस को कम करने का प्रयास करते हैं तो  उनके पास बैठने का उपक्रम करने का क्या आवश्यकता है  ? कहते हैं करोना कॉल ने लोगों का उठना बैठना या दोस्तों के दरवाजे आपस में बंद कर दिया  है कि हम चाह कर भी दूसरों के पास जाकर नहीं उठ बैठ पा रहे हैं  यह बात उतनी ही सत्य हो सकती है कि पानी में मीन में  प्यासी रे , मोला देखत  आवे हाँसी रे । हम Read More

रीवा शहर के बिजली उपभोक्ता 3 केन्द्रों में दर्ज करा सकते हैं शिकायतें

t4unews :रीवा . रीवा शहर के बिजली उपभोक्ताओं की सुविधा के लिए शहर में 3 शिकायत केन्द्र आरंभ किये गये हैं। इनमें बिजली उपभोक्ता अपनी शिकायतें दर्ज कराकर त्वरित समाधान करा सकते हैं। इस संबंध में अधीक्षण अभियंता पूर्वी क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी रीवा शरद श्रीवास्तव ने बताया कि पॉवर हाउस कैम्पस अमहिया में बनाये गये शिकायत केन्द्र में मार्तण्ड स्कूल, बिछिया, चिरहुला, गोड़हर, पड़रा तथा पॉवर हाउस अमहिया से जुड़े उपभोक्ता शिकायत दर्ज करा सकते हैं। इसका टेली फोन नंबर 07662-257322 एवं 255225 है। 

    उन्होंने बताया कि नेहरू नगर शिकायत केन्द्र का टेली फोन नंबर 07662-250194 है। इसमें नेहरू नगर उप केन्द्र यूनिवर्सिटी, इंजीनियरिंग कालेज, रतहरा के उपभोक्ता अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। गोड़हर शिकायत केन्द्र में मोबाइल नंबर 9425424203 पर बिजली संबंधी शिकायतें दर्ज करायी जा सकती हैं। इसमें 11 केव्ही नगर निगम तथा इडंस्ट्रियल फीडर के उपभोक्ता शिकायतें दर्ज करा सकते हैं। इसके आलावा बिजली उपभोक्ता टोल फ्री नंबर 1912 पर भी शिकायत दर्ज कर अपनी समस्याओं का समाधान प्राप्त कर सकते हैं। 

मुख्यमंत्री द्वारा बिजली के बिलों में दी गई रियायतों की घोषणा व्यापारियों के लिये हितकर 

व्यवसायियों ने मुख्यमंत्री को दिया धन्यवाद 

रीवा,  कोरोना संक्रमण के कारण प्रदेश में लॉकडाउन के दौरान व्यापारियों की दुकानें लगभग दो माह तक बंद रही। लॉकडाउन में व्यवसाय न होने तथा आय के स्त्रोत बंद हो जाने से इनकी आर्थिक स्थिति बिगड़ गई है इसी दौरान इन व्यवसायियों के दुकानों के बिजली के बिल आये जो बहुत अधिक थे। प्रदेश के सह्दय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इनका दर्द समझा व घोषणा की कि बिजली के बिलों में रियायत दी जायेगी। 

    मुख्यमंत्री की घोषणा से रीवा शहर में नाज हर्बल कास्मेटिक एजेंसी के संचालक मुशीर खान काफी खुश हैं वह बताते हैं कि लॉकडाउन के दौरान व्यूटी पार्लर बंद थे उनका पार्लर के सामान की विक्री नही हुई अलग से बिजली के बिल की मार भी थी। मगर मुख्यमंत्री जी ने सभी के हित में सोचा और इसमें रियायत देने की घोषणा की। इसी प्रकार गैलेक्सी फ्लैक्स प्रिंटिंग व्यवसाय के संचालक बबलू जायसवाल व एक्वेरियम विक्रेता जे.एन. सिंह सोमवंशी मुख्यमंत्री को धन्यवाद देते हुए कहते हैं कि प्रदेश के मुख्यमंत्री हर व्यक्ति के बारे में सोचते हैं और उनके हित में निर्णय भी लेते हैं। लॉकडाउन में दुकानें बंद थी, आय के स्त्रोत नहीं थे। ऐसे में बिजली के बिल भरना कठिन कार्य था। मुख्यमंत्री जी ने सह्दयता दिखाई व सहूलियतों की घोषणा की जो हम व्यवसायियों के लिये संजीवनी का काम करेगी। 


 

Read More

एमआईसी मेंबर रमेश प्रजापति और भारतीय जनता पार्टी के मुखर्जी मंडल द्बारा कोरोना काल में टेक्सी ड्राइवर ग्रुप के लिऐ राशन वितरण

 t4unews:निस्वार्थ सेवा की कोई जाति नहीं होती कोई इरादे नहीं होती कोई समाज नहीं होती और कोई बात नहीं होती ,  कोई दीवार नहीं होती। कोरोना  काल में जिस तरीके से भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने एड़ी चोटी लगा कर के अपने तन मन और धन से सहयोग दिया है यह निसंदेह सराहनीय है ।  इनकी नजर में सभी प्रकार के कमजोर वंचित और दबे कुचले वह सब समुदाय आते हैं जिन्हें सहयोग और सेवाओं की जरूरत है।   जब करोना से त्राहिमाम करते हुए मजदूर सामान्य वर्ग और मीडियम क्लास के लोगों की ओर सब की नजर गई परंतु आज तक किसी का भी ध्यान इन टेक्सी चालक संघ की तरफ नहीं किया जो विगत तीन-चार महीने से बंद काम की वजह से बेकार-बेकार और परेशान से घर में दबे चुपके से बैठे हैं। इनके घर में भी जिस प्रकार की व्यथा है उसकी कथा को सुनने वाला कोई तो हो ।इसी संदर्भ में पहल करती हुई  श्री रमेश  प्रजापति जी के द्वारा जिस प्रकार इन्हें सहयोग और प्रेम अपनत्व का भाव की सहित सेवा अर्पण दिया गया है यह देखते हुए सभी नगर वासियों का दिल गदगद हो गया है।   पंडित द्वारका प्रसाद मिश्र वार्ड क्रमांक 46एवं  57 एमआईसी मेंबर रमेश प्रजापति से जिस प्रकार  सहयोग और सेवा की पहल उठी है इसी प्रकार हर वार्ड में यही कार्य इन संवाहक रूपी  को टैक्सी चालकों के दल के साथ करना चाहिए।  जिनकी ओर प्रशासन का ध्यान भी जाए तो अच्छी बात होगी ।   

आज पंडित द्वारका प्रसाद मिश्र वार्ड क्रमांक 46एवं  57 एमआईसी मेंबर रमेश प्रजापति के पार्षद कार्यालय से डेढ़ सौ ऑटो चालक ड्राइवरों को निरंतर ढाई माह से बेरोजगारी की स्थिति में बैठे हुए थे इसकी चिंता करती हमारे भारतीय जनता पार्टी के मुखर्जी मंडल के और तमाम द्वारका नगर वार्ड के पूरे कार्यकर्ता जिसमें हमारे वरिष्ठ भारतीय जनता पार्टी के जयपाल भोमिया जी मंडल के युवा मोर्चा के अध्यक्ष अर्जुन रजक जी मंटू शर्मा जी लालू राजपूत जी राजू रैकवार जी हेमराज रजक जी प्रजापति समाज के सरपंच बलराम प्रजापति जी विशाल प्रजापति जी मनीष सोनी जी ऐसे तमाम कार्यकर्ता जिन्होंने 70 दिन से अथक परिश्रम करके मानवता की सेवा द्वारका नगर वार्ड में की एक माह तक   लोगों ने के भोजन की किचन चलाई । उसके बाद  तत्काल डेढ़ माह से राशन वितरण कर रहे हैं । प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी के निर्देश अनुसार  कोरोना काल में पीड़ित को व्यक्ति जो मदद चाहता है उसे  भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता  पूरे दिल से मदद करने  के लिऐ जुटे हुए हैं।  भारतीय जनता पार्टी का  जैसा नारा है सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास  वैसा ही काम कार्यकर्ता भारतीय जनता के पूरे जिसमे जान से लगे है ।  ये जानकारी हमारे संवाददाता को दी  गई है । 

Read More
Powered by Diwanproductions Owned by CompEx Marketing Pvt. Ltd.
Flag Counter