तबीयत बिगड़ी तो बायपास पर छोड़कर भाग रहे थे साथी, इंदौर के युवकों ने ट्राला रोक अस्पताल भेजा, एक घंटे बाद हो गई मौत

मुंबई से आते वक्त ट्राले में एक मजदूर की तबियत बिगड़ी तो साथी उसे बायपास पर छोड़कर जा रहे थे। तभी इदौर के दो युवकों की नजर उन पर पड़ी। साथियों को डांटा। फिर बीमार को चौराहे पर पहुंचाया। डॉक्टर और पुलिसि को सूचना दी। एक घंटे बाद टीम पहुंची,...

तबीयत बिगड़ी तो बायपास पर छोड़कर भाग रहे थे साथी, इंदौर के युवकों ने ट्राला रोक अस्पताल भेजा, एक घंटे बाद हो गई मौत

मुंबई से आते वक्त ट्राले में एक मजदूर की तबियत बिगड़ी तो साथी उसे बायपास पर छोड़कर जा रहे थे। तभी इदौर के दो युवकों की नजर उन पर पड़ी। साथियों को डांटा। फिर बीमार को चौराहे पर पहुंचाया। डॉक्टर और पुलिसि को सूचना दी। एक घंटे बाद टीम पहुंची, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी।

राऊ थाने के एसआई जीएस पाराशर के अनुसार घटना राऊ चौराहे के पास रविवार दोपहर 4 बजे हुई है। एक ट्राले में 40 लोगों के साथ ढसकर आ रहे बिहार के 40 वर्षीय रामप्रसाद की मौत हो गई। वह मुंबई से चला था तभी उसे बुखार था। तेज धूप में तपने से उसे लू लग गई। संभवतः उसी कारण मौत हुई।एसडीएम से बात करने के बाद उसका इंदौर में अंतिम संस्कार करवा दिया है।

बियावानी के भाजपा नेता विजय देवड़ा ने बताया कि वे बायपास पर मदद के लिए जा रहे थे, तभी देखा कि एक ट्राला रुका। उसमें से चार मजदूरों ने एक मजदूर को पेड़ के नीचे पटका और जाने लगे थे। तभी विजय ने शोर मचाया और डांट फटकारकर बीमार की सुध ली। ट्राला खाली करवाकर बीमार को निजी अस्पताल पहुंचाया। फिर पुलिस और एंबुलेंस को सूचना। आरोप है कि एंबुलेंस एक घंटे तक नहीं आई। इधर, निजी अस्पताल ने जांच के बाद उसे मृत घोषित कर दिया।

 


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

 

एसडीएम से बात करने के बाद उसका इंदौर में अंतिम संस्कार करवाया गया। (प्रतीकात्मक फोटो)